बीत चूका है वो समय

जब तुम और सुख
आते थे साथ साथ..
एक दूसरे की
गल बहियाँ  डाले..

जब खुशियाँ
ढूंढा करती थी
बहाने तेरे होने के--

अब तो लगता है

दुःख में और
तुममे कोई रिश्ता है..
जब भी ये होता है
तुम भी होती हो
यहीं कहीं
आस पास..

मेरी यादों में




शीर्षक , ,
कैसा लगा.. 
0 Responses

Post a Comment